Home History History of medieval India मध्यकालीन भारत का इतिहास Part II By Ankur Yadav

History of medieval India मध्यकालीन भारत का इतिहास Part II By Ankur Yadav

by sarkari result update
History of medieval India मध्यकालीन भारत का इतिहास Part II By Ankur Yadav

Hello दोस्तों, नमस्कार आज हम आपके लिए History Medieval of India (मध्यकालीन भारत का इतिहास) Part II की Notes लेकर आए है| जो Ankur Yadva जी द्वारा लिखी गई है | इस Notes में आपको मुग़ल काल, मुग़ल वंश, बाबर का भारत पर आक्रमण से सम्बंधित हर एक जानकारिया इस Post के माध्यम से आज हम आपको बताएगे | तथा साथ ही साथ आपको PDF भी उप्लाब्थ करायेगे |

Madhyakalin Bharat ka Itihas in Hindi PDF

मुग़ल वंश 1526-1858

  1. मुगल शब्द की लेटिन भाषा के MONG शब्द से हुआ है जिसका अर्थ बहादुर होता है
  2. मुगल वंश के शासक तुर्की नस्ल के चगताई शाखा से सम्बन्ध रखते थे, भारत में मुगल वंश की नींव 1526 ई, में जहीरुद्दीन बाबर के द्वारा डाली गई .

जहीरुद्दीन मोहम्मद बाबर

  • जन्म : 14 फरवरी फरजाना में
  • पिता : उमर शेख मिर्जा (फरगना का शासक)  [चगताई तुर्की]
  • माता : कुतलुगानिगार खा (मगोल वंश )

Note : जहीरुद्दीन मोहम्मद बाबर पिता की ओर से तेमुरो का 5 वा  वंशज और माता की ओर से चगेज खा (मुगल वंश) का 14 वा वंशज था |

बाबर का भारत पर आक्रमण

  1. बाजौर और भेरा पर आक्रमण (1519 ई०)
  2. पेशावर पर आक्रमण (1519 ईश्वर)
  3. स्थालकोट पर आक्रमण (1520 ईसवी)
  4. लाहौर और दीपालपुर पर आक्रमण (1524 ईसवी)

Note : यह बाबर द्वारा भारत में लड़ा गया पहला युद्ध था जो यूसुफजई जातियों के विरुद्ध था |

नसीरुद्दीन मोहम्मद हुमायूं

बाबर के चार पुत्र थे ( हुमायूं , कामरान, असकरी और हिंदाल ) मैं हुमायूं  सबसे बड़ा था

  1. जन्म : 6 मार्च 1508 ईसवी (काबुल के किले में)
  2. पिता : बाबर
  3. माता : माहम सुल्ताना
  4. चचेरा भाई :  सुलेमान मिर्जा
  5. प्रथम बार शासक :1530 ईस्वी से 1540 इसवी तक

30 सितंबर 1530 ई०  को हुमायूं ने नसरुद्दीन मोहम्मद हुमायूं की उपाधि धारण करके आगरा में  अपना राज्यअभिषेक कराया,  पिता की वसीयत  के अनुसार सम्राज्य का अपने भाइयों में बंटवारा कर दिया |

  • कामरान को काबुल वह कंधार
  • असकरी  को संभल (रामपुर U.P के आसपा)
  • हिंदाल को अलवर प्रांत

सूर्यवंश द्वितीय अफगान वंश (1540 – 55 ई०)

द्वितीय अफगान वंश की नीव शेरशाह सूरी ने रखी – शेरशाह सूरी ( 1540- 45 ईसवी)

  • बचपन का नाम : फरीद खान
  • पिता का नाम : हसन खान
  • दादा का नाम : इबहीम शूर (छोढे का व्यापारी)
  • जन्म : 1472 ई०  (पंजाब के बजवाड़ा में)
ध्यान दे : मध्यकालीन भारत का इतिहास से सम्बंधित और जादा जानकारी प्राप्त करने के लिए निचे से PDF Download करे |

Madhyakalin Bharat ka Itihas By Ankur Yadav

 

→ तो आसा होगा दोस्तो अगर आपको यह Post अच्छी लगी हो तो इसे  Facebook पर Share अवश्य करें | अब आप  हमें Facebook पर Follow कर सकते है !  क्रपया Comment के माध्यम से बताऐं की  ये Post आपको कैसी लगी आपके सुझावों का भी स्वागत रहेगा Thank You.

Must Also Read

You may also like

1 comment

SAJJAN KUMAR SAHU July 4, 2018 - 4:43 pm

too good

Reply

Leave a Reply